रविवार, 11 फ़रवरी 2007

अधूरी कविता - १

जब बात हो रही है बचपन की कविताओं की तो एक कविता मुझे ज़रूर याद आती है, लेकिन अफ़सोस कि वो पूरी याद नही है । सिर्फ़ शुरूआत कि कुछ पंक्तियाँ ही दिमाग़ मे हैं अभी ।
अग़र कोई सज्जन इसे पूरा कर सकें तो बहुत आभारी रहूंगा --

यदि होता किन्नर नरेश मै, राजमहल मे रहता
सोने का सिंहासन होता, सिर पर मुकुट चमकता ।

बन्दी जन गुण गाते रहते दरवाजे पर मेरे
प्रतिदिन नौबत बजती रहती, सन्ध्या और सवेरे ।

8 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Raj Mahal me bandi jan saare
gun gaate rahate mere
pratidin naubat bajti rahati
darvaje par mere

Baandh khadag talwar saath
aath ghodon ke rath par chalta
subah saware mai kinnar ke
raajmarg par chalta

raaj marg par subah saware
aati dekh sawari
ruk jaate pathik darshan karne
praja umadti saari

jai ho, jai ho kinnar naresh ki
jai ho ke naare lag jaate...
.....
......

I can recall only this much. If someone knows the whole poem and sends me, i will be really really greatful to him/her
Thanks,
Neeraj
neerajnz@hotmail.com

बेनामी ने कहा…

yadi hota kinnar naresh main
raj mahal me rahta
sone ka sinhasan hota
sar par mukut chamakta

Bandijan gun gate rahte
Darwaje par mere
pratidin naubat bajti rahti
sandhya aur savere

Mere van me singh ghumte
Mor nachte aangan
mere bagon me koyalia
barsati madhu ras kan

Mere talabo me khilti
Kamal Dalon ki paanti
bahurangi machliyan tairti
tirche par chamkati

Rajmahal se dhere-dhere
aati dekh sawari
ruk jate path darshan karne
praja umadti saari

Jai kinnar naresh ki jai ho
ke naare lag jate
harshit hokar mujhpe
saare log phool barsate

Tab lagta meri he hain
ye sheetal mand hawaen
jarte hue dhoodhia jharne
idhlati saritayen

Him se dhaki hui parwat ki
chandi si malaayen
phen rahit sagar jisme
lahren karti kridaen

Diwas sunehari raat rupahli
usha saanjh ki laali
chan-chan kar patton me bunti
hui chandni jaali

I can recall this much...

If some one can tell me the author of this poem, I will be very thankful
Praveen Srivastava
praveen.sase@gmail.com

Praveen ने कहा…

yadi hota kinnar naresh main
raj mahal me rahta
sone ka sinhasan hota
sar par mukut chamakta

Bandijan gun gate rahte
Darwaje par mere
pratidin naubat bajti rahti
sandhya aur savere

Mere van me singh ghumte
Mor nachte aangan
mere bagon me koyalia
barsati madhu ras kan

Mere talabo me khilti
Kamal Dalon ki paanti
bahurangi machliyan tairti
tirche par chamkati

Rajmahal se dhere-dhere
aati dekh sawari
ruk jate path darshan karne
praja umadti saari

Jai kinnar naresh ki jai ho
ke naare lag jate
harshit hokar mujhpe
saare log phool barsate

Tab lagta meri he hain
ye sheetal mand hawaen
jarte hue dhoodhia jharne
idhlati saritayen

Him se dhaki hui parwat ki
chandi si malaayen
phen rahit sagar jisme
lahren karti kridaen

Diwas sunehari raat rupahli
usha saanjh ki laali
chan-chan kar patton me bunti
hui chandni jaali

I can recall this much...

If some one can tell me the author of this poem, I will be very thankful
Praveen Srivastava
praveen.sase@gmail.com

बेनामी ने कहा…

author of poem is great ramdhri singh dinkar
vinit

बेनामी ने कहा…

author of poem is great dwaraka pd maheshwari
vinit

बेनामी ने कहा…

Ramdhaari singh dinkar !!

Brijesh Maurya ने कहा…

यदि होता किन्नर नरेश मैं, राजमहल में रहता. सोने का सिंहासन होता, सिर पर मुकुट चमकता.
बंदी जन गुण गाते रहते, दरवाजे पर मेरे. प्रतिदिन नौबत बजती रहती, संध्या और सवेरे.
मेरे वन में सिह घूमते, मोर नाचते आँगन. मेरे बागों में कोयलिया, बरसाती मधु रस-कण.
यदि होता किन्नर नरेश मैं, शाही वस्त्र पहनकर. हीरे, पन्ने, मोती माणिक, मणियों से सजधज कर.
बाँध खडग तलवार सात घोड़ों के रथ पर चढ़ता. बड़े सवेरे ही किन्नर के राजमार्ग पर चलता.
राज महल से धीमे धीमे आती देख सवारी. रूक जाते पथ, दर्शन करने प्रजा उमड़ती सारी.
जय किन्नर नरेश की जय हो, के नारे लग जाते. हर्षित होकर मुझ पर सारे, लोग फूल बरसाते.
सूरज के रथ सा मेरा रथ आगे बढ़ता जाता. बड़े गर्व से अपना वैभव, निरख-निरख सुख पाता.
तब लगता मेरी ही हैं ये शीतल मंद हवाऍ. झरते हुए दूधिया झरने, इठलाती सरिताएँ.
हिम से ढ़की हुई चाँदी सी, पर्वत की मालाएँ. फेन रहित सागर, उसकी लहरें करतीं क्रीड़ाएँ.
दिवस सुनहरे, रात रूपहली ऊषा-साँझ की लाती. छन-छनकर पत्तों से बुनती हुई चाँदनी जाली.

- द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

yeh hai aapki puri kavita
Brijesh Kumar Maurya

Brijesh Maurya ने कहा…

यदि होता किन्नर नरेश मैं, राजमहल में रहता. सोने का सिंहासन होता, सिर पर मुकुट चमकता.
बंदी जन गुण गाते रहते, दरवाजे पर मेरे. प्रतिदिन नौबत बजती रहती, संध्या और सवेरे.
मेरे वन में सिह घूमते, मोर नाचते आँगन. मेरे बागों में कोयलिया, बरसाती मधु रस-कण.
यदि होता किन्नर नरेश मैं, शाही वस्त्र पहनकर. हीरे, पन्ने, मोती माणिक, मणियों से सजधज कर.
बाँध खडग तलवार सात घोड़ों के रथ पर चढ़ता. बड़े सवेरे ही किन्नर के राजमार्ग पर चलता.
राज महल से धीमे धीमे आती देख सवारी. रूक जाते पथ, दर्शन करने प्रजा उमड़ती सारी.
जय किन्नर नरेश की जय हो, के नारे लग जाते. हर्षित होकर मुझ पर सारे, लोग फूल बरसाते.
सूरज के रथ सा मेरा रथ आगे बढ़ता जाता. बड़े गर्व से अपना वैभव, निरख-निरख सुख पाता.
तब लगता मेरी ही हैं ये शीतल मंद हवाऍ. झरते हुए दूधिया झरने, इठलाती सरिताएँ.
हिम से ढ़की हुई चाँदी सी, पर्वत की मालाएँ. फेन रहित सागर, उसकी लहरें करतीं क्रीड़ाएँ.
दिवस सुनहरे, रात रूपहली ऊषा-साँझ की लाती. छन-छनकर पत्तों से बुनती हुई चाँदनी जाली.

- द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

This is the complete poem

Brijesh Kumar Maurya